बुटाटी गांव जहां के चतुरदास जी महाराज के मंदिर में ठीक हो जाते हैं लकवे के मरीज!

चतुरदास जी महाराज के मंदिर में मरीज के परिजन नियमित लगातार 7 बार मन्दिर की परिक्रमा करते हैं और हवन कुण्ड की भभूति लगाते हैं!

March 30, 2017
306 Views
5 Comments

राजस्थान की धरती में चमत्कार के कई उदाहरण भरे पड़े हैं। आस्था रखने वाले के लिए आज भी अनेक चमत्कार के उदाहरण मिलते हैं, जिसके सामने विज्ञान भी नतमस्तक है। ऐसा ही उदाहरण नागौर के 40 किलोमीटर दूर स्तिथ ग्राम बुटाटी में देखने को मिलता है। लोगों का मानना है कि जहां चतुरदास जी महाराज के मंदिर में लकवे से पीड़ित मरीज का राहत मिलती है।

वर्षों पूर्व हुई बिमारी का भी काफी हद तक इलाज होता है। यहां कोई पण्डित महाराज या हकीम नहीं होता ना ही कोई दवाई लगाकर इलाज किया जाता। यहाँ मरीज के परिजन नियमित लगातार 7 बार मन्दिर की परिक्रमा लगवाते हैं। हवन कुण्ड की भभूति लगाते हैं, और बीमारी धीरे-धीरे अपना प्रभाव कम कर देती है। शरीर के अंग जो हिलते डुलते नहीं हैं वह धीरे-धीरे काम करने लगते हैं। लकवे से पीड़ित जिस व्यक्ति की आवाज बन्द हो जाती वह भी धीरे-धीरे बोलने लगता है।

अनेक मरीज जो डॉक्टरो से इलाज करवाने के बाद निरास हो गए थे लेकिन उन मरीजों को यहाँ काफी हद तक बीमारी में राहत मिली है। देश के विभिन्न प्रान्तों से मरीज यहां आते हैं और यहां रहने व परिक्रमा देने के बाद लकवे की बीमारी राहत मिलती है। मरीजों और उसके परिजनों के रहने व खाने की निःशुल्क व्यवस्था होती है। दान में आने वाला रुपया मन्दिर के विकास में लगाया जाता है। पूजा करने वाले पुजारी को ट्रस्ट द्वारा तनखाह मिलती है। मंदिर के आस-पास फैले परिसर में सैकड़ों मरीज दिखाई देते हैं, जिनके चेहरे पर आस्था की करुणा जलकती है और वे संत चतुरदास महारज की कृपा का मुक्त कंठ प्रशंसा करते दिखाई देते हैं।

Get the best viral stories straight into your inbox!

Don't worry, we don't spam

5 Responses

  1. Thanks for ones marvelous posting! I quite enjoyed reading it, you might be a great author.I will ensure that I bookmark your blog and will eventually come back very soon. I want to encourage you to continue your great posts, have a nice weekend!

    Reply

Leave a Comment

Your email address will not be published.