…गाय के पूंछ पर दांतों की चबाहट!

इंडोनेशिया के ‘पाकु जावी’ महोत्सव रेस में गाय तेज दौड़े इसलिए उन्हें दांतों से काटते हैं यहां के किसान! 400 सालों से परंपरा के नाम पर गाय का तमाशा!

May 10, 2017
308 Views

हमारी दुनिया में जितनी बड़ी है उतनी ही विविधताओं से भरी हुई भी है। यहां अलग-अलग देशों में अलग-अलग परंपराएं हैं। कुछ परंपराओं को सुनकर दुख होता है तो कुछ को सुनकर थोड़ा अजीब भी लगता है और कुछ को देखकर गुस्सा भी बहुत आता है! …लेकिन जहां लोग जानवरों के साथ हो रहे अत्याचार को अपनी परंपराओं के साथ जोड़ दे तो उनकी जंगली मानसिकता की पोल खुल जाती है।

जिस गाय को हम माता के समान मानते हैं वहीं उस गाय की इंडोनेशिया में एक दौड़ प्रतियोगिता होती है। वैसे तो अन्य जानवरों की रेस दुनियां में कई जगह होती है लेकिन गायों की रेस सिर्फ यहीं होती है।

इंडोनेशिया में होने वाली गायों के रेस वाले इस महोत्सव को ‘पाकु जावी’ कहा जाता है। इस देश में ऐसी रेस पिछले 400 सालों से होती आ रही है। इस महोत्सव में किसानों को अपनी गायों की ताकत दिखाने का अच्छा मौका मिलता है। जिस किसान की गाय इस रेस में प्रथम आती है वो किसान अपनी गाय को मुंहमांगे दामों में बेच सकता है।

रेस जीतने के लिए किसान अपनी गायों को एक सैनिक की तरह तैयार करता है। गायों को दौड़ने में कोई दिक्कत ना आए इसके लिए किसान उन्हें लकड़ी के एक फ्रेम में बांध देता है। इससे एक फायदा ये भी होता है कि गाय कहीं इधर उधर ना भागे। किसान के दिमाग में बस एक बात होती है कि चाहे कुछ भी हो जाए उसकी गाय ये प्रतियोगिता जरूर जीत जाए।

वैसे तो अपनी गाय को इस प्रतियोगिता में जिताने के लिए किसान हर तरह की कोशिश करता है। लेकिन जो चीज किसी को भी हैरान कर दे वो ये है कि किसान अपनी गाय की रफ्तार बढ़ाने के लिए उसकी पूंछ में बराबर दांत काटता रहता है। जब भी किसान को लगता है कि गाय के दौड़ने की रफ्तार कम हो रही है वो उसकी पूंछ में जोर से दांत काट लेता है। गाय भी समझ जाती है कि उसका मालिक उसे तेज ना दौड़ने की सजा दे रहा है। बस फिर क्या गाय भी अपनी जी जान लगा देती है दौड़ने में। अगर उसकी गाय रेस जीत जाती है तो वह उसे मुंहमांगी कीमत में बेच देता है। सदियों से ये रेस बदस्तूर जारी है। इंडोनेशिया की इस पारंपरिक महोत्सव को देखने दूर-दूर से लोग आते हैं।

Get the best viral stories straight into your inbox!

Don't worry, we don't spam

Leave a Comment

Your email address will not be published.