…जब शादी के 25 साल बाद लेने पड़े सात फेरे!

25 साल पहले कोर्ट मैरिज की थी लेकिन बच्चों की शादी के लिए लेने पड़े सात फेरे! ...समाज के लोगों का कहना था कि कोर्ट मैरिज वाले दंपत्ति कन्यादान नहीं कर सकते!

May 10, 2017
74 Views

खबर है कि मध्य प्रदेश की है जहां शिवपुरी जिले की कोलारस जनपद के अंतर्गत आने वाले ग्राम भैरोगढ़ में अनोखी शादी हुई। यहां सरमन चिड़ार और उनकी पत्नी कस्तूरी ने सात फेरे लिए। दिलचस्प बात यह है कि दोनों 25 साल से न केवल पति-पत्नी की तरह रह रहे थे, बल्कि उनकी तीन संतान भी हैं, जो शादी योग्य हैं।

अपने जवान बच्चों के रहते हुए उम्रदराज हो चुके इस जोड़े को शादी की रस्म इसलिए निभानी पड़ी, क्योंकि उन्होंने कोर्ट मैरिज की थी। समाज के लोगों का कहना था कि कोर्ट मैरिज वाले दंपत्ति कन्यादान नहीं कर सकते।

अब अपने जवान होते बच्चों के लिए जीवनसाथी तो समाज में ही ढूंढना है, इसलिए बच्चों की शादी के खातिर इस उम्रदराज जोड़े को वैवाहिक रस्मों निभाना पड़ी, जैसे नए जोड़े की शादी होती है।

1992 में की थी कोर्ट मैरिज

मजदूरी करके परिवार का भरण पोषण करने वाले सरमन चिड़ार ने बताया कि टीकमगढ़ जिले के ग्राम बछौड़ा में रहने वाली कस्तूरी के साथ हमने 19 जून, 1992 को कोर्ट मैरिज की थी। इसके बाद हमारे तीन बच्चे हुए। जब तक ये बच्चे बड़े नहीं हुए, तब तक तो कोई बात नहीं थी। जब वे जवान हो गए और उनके शादी-संबंध के लिए प्रयास शुरू किए तो यह सामाजिक पेंच फंस गया।

बेटी की शादी में नहीं होगी दिक्कत

स्थानीय लोगों का कहना है कि अब उम्रदराज माता-पिता फिर से दूल्हा-दुल्हन बनकर विवाह रचाने को मजबूर हुए। चिड़ार का कहना है कि 25 साल बाद पूरी रस्मों के साथ विवाह करने के बाद अब हमारे बच्चों विशेषकर बेटी की शादी में कोई सामाजिक दिक्कत नहीं आएगी।

Get the best viral stories straight into your inbox!

Don't worry, we don't spam

Leave a Comment

Your email address will not be published.